Prayagraj: शाइस्ता परवीन अतीक अहमद के जनाजे में आई थी, वफादार के बेटे का खुलासा

Prayagraj: शाइस्ता परवीन अतीक अहमद के जनाजे में आई थी, वफादार के बेटे का खुलासा

प्रयागराज: माफिया डॉन अतीक अहमद की हत्या के बाद एक तरफ पुलिस उसकी पत्नी शाइस्ता परवीन की तलाश में खाक छान रही है, वहीं शाइस्ता भी पुलिस को छकाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही. वह तो अतीक के जनाजे में भी शामिल होने आई थी. अतीक की हत्या वाली रात ही वह अपने वफादार जफरुल्लाह के खुल्दाबाद स्थित घर पर आ गई थी. वहीं अगले दिन जनाजे में वह बुर्का पहन कर शामिल भी हुई. लेकिन ऐन वक्त पर पुलिस को भनक लगने की वजह से उसे पति का अंतिम दर्शन किए बिना वापस लौटना पड़ा.

यह खुलासा कोई और नहीं, खुद जफरुल्लाह के बेटे अतीन जफर ने किया है. उसके साथ अतीक का खास शूटर और पांच लाख का इनामी बदमाश साबिर भी मौजूद था. अतीन ने पुलिस की कड़ी पूछताछ के दौरान स्वीकार किया कि फरारी के दौरान शाइस्ता कई बार उसके घर आई थी. वह उस दिन भी उसके घर में ही थी, जब अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ को दफन किया गया. शाइस्ता के इस दफन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए ही उस दिन काफी संख्या में बुर्काधारी महिलाओं को कब्रिस्तान भेजा गया था.

अतीन ने बताया कि शाइस्ता पति के अंतिम दर्शन के लिए कब्रिस्तान भी पहुंची, लेकिन पुलिस की कड़ी चेकिंग की वजह से ही उसे कब्रिस्तान के बाहर से ही वापस लौटना पड़ा. वहीं पुलिस को यह भी खबर मिल गई थी कि वह उसके घर में ठहरी है. ऐसे में पुलिस शाइस्ता की घेराबंदी करने लगी. इधर, शाइस्ता को भी पुलिस की हरकत का अंदाजा हो गया. ऐसे में उसने तुरंत दफन में शामिल होने का कार्यक्रम छोड़ कर प्रयागराज में ही किसी अन्य ठिकाने पर चली गई.

अतीन ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि शाइस्ता ने अपने पति अतीक अहमद के अंतिम दर्शन के लिए बहुत बड़ा रिस्क लिया था. वह जानती थी कि पुलिस उसे पकड़ने के लिए पूरे इलाके में अपने तार बिछा रखे हैं. बावजूद इसके वह चकिया पहुंच गई. वह बुर्का पहनकर अन्य महिलाओं के साथ कसारी मसारी कब्रिस्तान भी गई थी. लेकिन पुलिस चूंकि हरेक महिला और पुरुष को चेक करने के बाद ही अंदर जाने दे रही थी, ऐसे में शाइस्ता को कब्रिस्तान के बाहर से ही वापस लौटना पड़ा था.

अतीन ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि वह असद का जिगरी दोस्त है. उसने असद के वास्ते ही अब तक इस राज को छुपा रखा था. इस मामले में पुलिस ने धूमनगंज थाने में नया केस दर्ज किया है. अतीन ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि शाइस्ता परवीन के साथ उस समय शूटर साबिर और अतीक अहमद का सुरक्षा गार्ड भी मौजूद थे. यह सभी लोग पुलिस के आने के पांच मिनट पहले ही उसके घर से निकल गए थे. बता दें कि शाइस्ता की गिरफ्तारी पर पुलिस ने एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया है.

Leave a Reply

Required fields are marked *