झांसी: दरोगा ने बहू को घर से निकाला; 4 बच्चियों को लेकर SSP ऑफिस पहुंची

झांसी: दरोगा ने बहू को घर से निकाला; 4 बच्चियों को लेकर SSP ऑफिस पहुंची

झांसी में RPF में तैनात दरोगा ससुर ने बेटे की मौत के बाद बहू और उसकी 4 बच्चियों को घर से निकाल दिया। महिला चारों बच्चियों को लेकर सड़कों पर भटक रही है। शुक्रवार को वह बच्चियों को लेकर SSP कार्यालय पहुंची और पुलिस अफसरों से न्याय की गुहार लगाई है। SSP ने पूरे मामले की जांच महिला थाना पुलिस को सौंपी है। हालांकि ससुर ने सभी आरोपों को गलत बताया है। घटना थाना प्रेमनगर क्षेत्र के हंसारी की है।

महिला सुमन ने बताया, ससुराल वाले कहते हैं कि लड़कियों का क्या करेंगे? अगर तुमने एक बेटे को जन्म दिया होता, तो घर में रख लेते। ससुर ने मुझे बेटा न होने की सजा दी है। बेघर होने के बाद सुमन अपने बेटियों के साथ रिश्तेदार के घर पर रुकी हैं।

बेटा न होने से खुश नहीं ससुराल वाले

मध्य प्रदेश के निवाड़ी की रहने वाली सुमन अहिरवार की शादी 5 मई 2011 को हंसारी के रवि कुमार के साथ हुई थी। महिला ने बताया कि मेरे पति रवि अपने माता-पिता के इकलौते बेटे थे। मैं भी अपनी माता-पिता की इकलौती बेटी हूं। घरवालों ने शादी में अपाचे बाइक सहित 4 लाख रुपए दहेज दिए थे। शादी में 6 से 7 लाख रुपए खर्च हुए थे। इसके बाद उनकी चार बेटियां हुईं।

महिला ने कहा कि बेटियों के होने से ससुराल के लोग मुझसे नाखुश रहते थे। इसको लेकर अक्सर ताना मारते थे। पति रवि शराब के आदी थे। इससे उनका लीवर खराब हो गया और 2019 में उनकी मौत हो गई। इसके बाद ससुराल में मेरी की प्रताड़ना का सिलसिला तेज हो गया। मेरे के ससुर RPF में दरोगा हैं। वह शहर में ही तैनात हैं।

16 मार्च को मायके से ससुराल लौटी महिला

महिला ने बताया कि पति की मौत के बेटियों को लेकर मायके चली गई। 16 मार्च को ससुराल लौटी। इसके बाद ससुराल वालों ने बेटियों समेत घर से निकाल दिया।

रानी लक्ष्मीबाई पब्लिक स्कूल में पढ़ती हैं बच्चियां

महिला ने बताया कि मेरी चारों बेटियां निवाड़ी के रानी लक्ष्मीबाई पब्लिक स्कूल में पढ़ती हैं। 11 साल की अस्मिता 5वीं क्लास , 9 साल की अर्पिता चौथी क्लास और 7 साल की जुड़वां रिद्धि-सिद्धि फर्स्ट में पढ़ती हैं। 3 बेटियों के 20 मार्च से एग्जाम हैं। जबकि सबसे बड़ी अस्मिता के 25 मार्च से एग्जाम है।

SSP ऑफिस में पढ़ती नजर आईं बच्चियां

SSP कार्यालय के बाहर खाना खाया और बच्चियां सड़क पर बैठकर पढ़ती नजर आईं। इस सिलसिले में महिला ने कहा कि आने वाली 20 तारीख से बच्चों की परीक्षा शुरू होने वाली है। इस वजह से वे किताबें लेकर आई हैं।

दरोगा ससुर ने कहा- बहू मुझे फंसाकर पैसा हड़पना चाहती है​​​​​​

दरोगा ससुर श्रीलाल ने सारे आरोपों को बेबुनियाद बताया है। उन्होंने कहा कि साल 2016 में बहू ने दहेज उत्पीड़न का पति और सास-ससुर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। साल 2022 में कोर्ट ने दोषमुक्त कर दिया है। बेटे की मौत के बाद सास-सुसर के खिलाफ घरेलू हिंसा का केस कर दिया। मामला कोर्ट में विचाराधीन है। रिटायरमेंट मेरा करीब है। मुझे फंसाकर पैसा बहू हड़पना चाहती है।

उन्होंने कहा कि मकान में ऊपर का हिस्सा बहू को दिया है। हर महीने दो तारीख को 4 से 5 हजार रुपए देता हूं। जब भी घर बहू आती है, तो सास से लड़ाई करती है। 16 मार्च को चौकीवालों ने बुलाया था। इसके बाद वहां पहुंचकर अपनी बात बताई थी।

मामले में SP सिटी ज्ञानेंद्र सिंह का कहना है, पीड़ित महिला ने शिकायत दी है। मामला पारिवारिक है। दोनों पक्षों को बुलाकर महिला थाने में जानकारी लेकर काउंसलिंग कराकर मामले का निपटान कराया जाएगा।

Leave a Reply

Required fields are marked *