धोनी के एक फैसले ने बदल दी वनडे क्रिकेट की चाल, टीम इंडिया को मिला बेमिसाल बैटर

धोनी के एक फैसले ने बदल दी वनडे क्रिकेट की चाल, टीम इंडिया को मिला बेमिसाल बैटर

नई दिल्ली. रोहित शर्मा की गिनती आज दुनिया के सबसे सलामी बल्लेबाजों में होती है. उनके नाम वनडे में तीन दोहरे शतक हैं. लेकिन, अपने करियर की शुरुआत में वो मिडिल ऑर्डर में बैटिंग करते थे. लेकिन, मध्य क्रम में वो सफल नहीं हो पा रहे थे. इसके बाद महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें ओपनिंग में आजमाने का फैसला लिया और यह सिर्फ रोहित के करियर के लिए ही टर्निंग प्वाइंट साबित नहीं हुआ, बल्कि वनडे क्रिकेट की दिशा बदलने वाला भी रहा. क्योंकि रोहित ने वनडे में ओपनिंग करते हुए 3 दोहरे शतक ठोके.

रोहित ने वैसे तो वनडे में पहली बार ओपनिंग 18 जनवरी 2011 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ की थी. तब भारतीय दक्षिण अफ्रीका दौरे पर गई थी. रोहित को 3 मैच में पारी की शुरुआत करने का मौका मिला था. लेकिन, वो नाकाम रहे थे. इसके बाद वो टीम से अंदर-बाहर होते रहे.

2 साल बाद यानी 2013 में महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू वनडे सीरीज में अजिंक्य रहाणे को दरकिनार कर रोहित को बतौर ओपनर आजमाने का फैसला लिया. वो तारीख थी 23 जनवरी, 2013. उस दिन रोहित ने इंग्लैंड के खिलाफ मोहाली वनडे में ओपनिंग गौतम गंभीर के साथ पारी की शुरुआत की थी और 83 रन बनाए थे. यह घर में पहली मौका था, जब रोहित ने वनडे में ओपनिंग की थी. यानी घर में वनडे में पारी की शुरुआत के 10 बरस पूरे हो चुके हैं.

उनकी इस पारी की बदौलत भारत ने इंग्लैंड को 5 विकेट से हराया था और यहीं से उनके वनडे क्रिकेट के धाकड़ सलामी बल्लेबाज बनने की शुरुआत हुई थी. इस मैच के बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और 10 साल के भीतर सबसे बेहतरीन सलामी बल्लेबाजों की फेहरिस्त में शामिल हो गए.

webstory

1 साल में कितना पैसा कमाते हैं शुभमन गिल

रोहित सितंबर 2021 के बाद शतक नहीं ठोक पाए

रोहित ने इन 10 सालों में वनडे में बतौर ओपनर वो मुकाम हासिल किया. जो बड़े-बड़े बल्लेबाज हासिल नहीं कर पाए. उन्होंने पारी की शुरुआत करते हुए वनडे में तीन दोहरे शतक ठोके. वनडे की सबसे बड़ी 264 रन की पारी खेली. फिलहाल, टीम इंडिया के कप्तान पुराने रंग में नहीं हैं. वो सितंबर 2021 के बाद से इंटरनेशनल क्रिकेट में शतक नहीं ठोक पाए हैं. लेकिन, जिस तरह के वो बल्लेबाज हैं, उसे देखते हुए वो किसी भी मैच में इस सूखे को खत्म कर सकत

रोहित ने बतौर ओपनर वनडे में 27 शतक जमाए

भारतीय कप्तान के नाम आज 240 वनडे में 48.65 की औसत से 9681 रन दर्ज हैं. इस दौरान उन्होंने 29 शतक और 48 अर्धशतक ठोके हैं. उन्होंने अपने 29 में से 27 वनडे शतक ओपनिंग करते हुए ही जड़े हैं. बतौर ओपनर रोहित ने 155 मैच में 55.93 की औसत से 7663 रन बनाए हैं. ओपनर के रूप में वनडे क्रिकेट में रोहित का स्ट्राइक रेट 92.71 का रहा है. वो किसी एक विश्व कप में 5 शतक ठोकने वाले इकलौते बैटर हैं. टी20 में उन्होंने जो 4 शतक ठोके हैं. वो चारों ही ओपनिंग करते हुए ही आए हैं.

असली कप्तान हैं रोहित शर्मा, टीम इंडिया के लिए दे रहे कुर्बानी; क्या खत्म होगा 12 साल का सूखा?

रोहित के बारे में भारतीय टीम के कोच राहुल द्रविड़ का भी कहना है, उन्होंने पिछले 15 सालों में जो किया है, वह भारतीय क्रिकेट के लिए बेंचमार्क है. आईसीसी टूर्नामेंट में उनका प्रदर्शन और बड़ी पारी खेलने की क्षमता उन्हें महान बल्लेबाजों की लिस्ट में शामिल करती है.

इस साल के अंत में वनडे विश्वकप होना है और रोहित शर्मा के लिए यह आखिरी टूर्नामेंट हो सकता है. रोहित और भारतीय टीम किसी भी कीमत पर खिताब जीतना चाहेगी.


Leave a Reply

Required fields are marked *