नई दिल्ली:WFI अध्यक्ष से परेशान विनेश आत्महत्या करने वाली थीं,बृजभूषण ने कहा- मुंह खोला तो सुनामी आ जाएगी, फेडरेशन ने कहा- कल गोंडा पहुंचें रेसलर

नई दिल्ली:WFI अध्यक्ष से परेशान विनेश आत्महत्या करने वाली थीं,बृजभूषण ने कहा- मुंह खोला तो सुनामी आ जाएगी, फेडरेशन ने कहा- कल गोंडा पहुंचें रेसलर

यौन शोषण के आरोपों में घिरे भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने शुक्रवार को इस्तीफा देने से साफ इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, मैं मुंह खोल दूंगा तो सुनामी आ जाएगी। मेरे समर्थन में भी कई खिलाड़ी हैं। मैं शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा।

इंडियन ओलिंपिक संघ को लिखे लेटर में पहलवानों ने आरोप लगाया- जब टोक्यो ओलिंपिक में विनेश फोगाट मेडल से चूक गई थीं, तब कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने उन्हें मानसिक तौर पर इतना परेशान किया कि विनेश ने सुसाइड का मन बना लिया था।

3 दिन से बृजभूषण शरण के इस्तीफे की मांग कर रहे महिला और पुरुष पहलवानों ने भारतीय ओलिंपिक संघ में यौन शोषण की शिकायत की है। खेल मंत्रालय ने लगातार दूसरे दिन शुक्रवार को भी इन पहलवानों से बातचीत की। गुरुवार को खेल मंत्री अनुराग ठाकुर की पहलवानों के साथ 4 घंटे बैठक चली थी। अनुराग ठाकुर अभी बृजभूषण के जवाब का इंतजार कर रहे हैं।

इस बीच, WFI ने कहा कि सीनियर नेशनल ओपन टूर्नामेंट अपने तय समय 21 से 23 जनवरी के बीच गोंडा में होगा और सभी पहलवान इसमें पहुंचें।

बृजभूषण को खेल मंत्रालय हटा नहीं सकता

युवा कार्य और खेल मंत्रालय ने WFI को नोटिस देकर 72 घंटे में जवाब मांगा था, जिसकी मियाद खत्म होने वाली है। सूत्रों की मानें तो जल्द ही फेडरेशन अपनी रिपोर्ट मंत्रालय को सौंप सकता है। इधर, सूत्रों ने बताया कि पहलवान भले ही यौन उत्पीड़न के मामले में सबूत का दावा कर रहे हैं, लेकिन अब तक कुछ दिया नहीं है।

मार्च तक खत्म हो रहा कार्यकाल

मंत्रालय की ओर से कुश्ती संघ के अध्यक्ष पर कार्रवाई के चांसेज कम हैं। सूत्रों ने बताया- WFI अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह खुद रिजाइन करते हैं तो ठीक, वर्ना मिनिस्ट्री उन्हें हटा नहीं सकती। WFI अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह का कार्यकाल मार्च तक खत्म हो रहा है। कुश्ती संघ के नियमों के अनुसार वे अब आगे चुनाव नहीं लड़ सकते हैं।

WFI ने रेसलिंग का सीनियर नेशनल टूर्नामेंट 21 से कराने का फैसला किया है। यह गोंडा में हो रहा है। फेडरशन का कहना है कि इसमें सभी रेसलर्स पहुंचें।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, बृजभूषण ने यौन शोषण के आरोपों को लेकर गृह मंत्री अमित शाह से फोन पर बात की है। हालांकि खुद बृजभूषण ने ऐसी किसी बातचीत से इनकार कर दिया है।

सूत्रों के मुताबिक खेल मंत्रालय ने आरोपों की जांच और मांगों पर विचार के लिए कमेटी बनाने का सुझाव दिया है। ऐसा कहा जा रहा है कि इस पर पहलवान राजी नहीं हैं।

बॉक्सर विजेंदर सिंह भी शुक्रवार सुबह जंतर-मंतर पहुंचे। उन्होंने कहा कि मैं यहां पहलवानों से मिलने आया हूं।

फेडरेशन को 72 घंटे का अल्टीमेटम

इससे पहले गुरुवार को खेल मंत्रालय ने पीड़ित खिलाड़ियों को बुलाकर करीब एक घंटे तक बातचीत की थी। बातचीत से पहलवान संतुष्ट नहीं हुए। उनकी मांग पहले WFI अध्यक्ष को हटाने की थी, अब वे कुश्ती संघ को भंग कराना चाहते हैं।

उन्होंने कहा- मांग पूरी होने तक उनका धरना-प्रदर्शन जारी रहेगा। खेल मंत्रालय ने कुश्ती संघ को नोटिस भेजकर जवाब के लिए 72 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। इसकी मियाद शनिवार रात यानी 21 जनवरी को खत्म होगी।

बृजभूषण सिंह ने कहा- मैं इस्तीफा नहीं दूंगा

WFI के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने कहा- मैं इस्तीफा नहीं दूंगा। मेरे खिलाफ कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुड्‌डा के इशारे पर राजनीति हो रही है। जो आरोप लगा रहे हैं, उनका करियर खत्म हो गया है। ज्यादातर पहलवान एक ही कम्युनिटी से हैं। पार्टी का जो आदेश मिलेगा, उसी को मानूंगा।

गोंडा में बृजभूषण के घर की सुरक्षा बढ़ी, मीडिया का जमावड़ा

बृजभूषण सिंह देर रात दिल्ली से UP के गोंडा पहुंचे। घर के बाहर बड़ी संख्या में मीडिया का जमावड़ा लगा हुआ है। वहीं समर्थकों की भी भीड़ है। जहां बृजभूषण तुम संघर्ष करो जैसे नारे लग रहे हैं। उनके घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है

विनेश फोगाट: हम अध्यक्ष का इस्तीफा भी चाहते हैं और अध्यक्ष को जेल भी भिजवाएंगे। हमारे साथ बहुत गलत हुआ है। हम बिना सबूत यहां नहीं बैठे हैं। अध्यक्ष दो मिनट मेरे सामने आंखों में आंखें में डाल कर बोल दें कि गलत नहीं किया है। हमारी लड़ाई लड़कियों को शोषण से बचाना है।

बजरंग पूनिया: हमारे साथ हिंदुस्तान के सारे रेसलर हैं। अध्यक्ष ने कहा था सबूत दो तो फांसी पर लटक जाऊंगा। पहले हमारे साथ दो लड़कियां थीं, अब हमारे साथ विद प्रूफ 6-7 लड़कियां हैं, जिनका अध्यक्ष ने शोषण किया है। हम पीछे नहीं हटेंगे। हम सिर्फ इस्तीफे से संतुष्ट नहीं होंगे। हम फेडरेशन को भंग कराना चाहते हैं।

साक्षी मलिक: बैठक में हमें सिर्फ आश्वासन दिया गया है। हम आश्वासन से संतुष्ट नहीं है। हमें ठोस कार्रवाई चाहिए।

WFI अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह और कुछ कोच पर ओलिंपिक विजेता खिलाड़ियों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। दिल्ली के जंतर-मंतर पर 200 से ज्यादा खिलाड़ी बुधवार यानी 18 जनवरी से धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं।

धरने पर बैठीं एक महिला पहलवान का आरोप है कि राष्ट्रीय प्रतियोगिता में आगे बढ़ने के लिए एक कोच ने उन्हें ‘साथ’ देने का दबाव डाला था। महिला पहलवान ने कहा वह पुलिस काे बयान देने को तैयार हैं।

पहलवान अंशु मलिक ने आरोप लगाया है कि संघ के अध्यक्ष सिंह नियम विरुद्ध होटल में महिला पहलवानों के सामने वाले कमरे में रहते थे। सिंह हमेशा अपने कमरे का दरवाजा खुला रखते थे। हम सभी डर के साए में टूर्नामेंट खेलती थीं।

Leave a Reply

Required fields are marked *