गोंडा में WFI अध्यक्ष बृजभूषण के घर से:कहा- इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता,करीबियों के साथ की मंत्रणा,बढ़ी कोठी की सुरक्षा

गोंडा में WFI अध्यक्ष बृजभूषण के घर से:कहा- इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता,करीबियों के साथ की मंत्रणा,बढ़ी कोठी की सुरक्षा

भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के अध्यक्ष और भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह देर रात दिल्ली से गोंडा पहुंच गए हैं। शुक्रवार को अपने आवास पर उन्होंने प्रेस कॉफ्रेंस बुलाई है। इसमें वह दिल्ली के पहलवानों के आरोपों पर जवाब देंगे। यानी, बृजभूषण शरण सिंह का इन आरोपों पर क्या रुख है? यह शाम 4 बजे क्लीयर हो जाएगा। पहले प्रेस कॉफ्रेंस का टाइम 12 बजे था, लेकिन बाद में उसे 4 घंटे आगे बढ़ा दिया गया। ऐसा क्यों किया? इसकी वजह फिलहाल स्पष्ट नहीं हो पाई है।

हालांकि, सूत्र बताते हैं कि दिल्ली में शुक्रवार को केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर की धरना दे रहे पहलवानों से दूसरे दौर की बातचीत होनी है। पहले इसका टाइम 10.30 था, लेकिन बाद में कुछ आगे बढ़ गया। माना जा रहा है कि बृजभूषण इसी मुलाकात का इंतजार कर रहे हैं। इसलिए, प्रेस कॉफ्रेंस का वक्त बढ़ाया गया है। उन्होंने अपने करीबियों के साथ कोठी में मंत्रणा की। इसमें आगे की रणनीति पर चर्चा हुई।

फिर बोले बृजभूषण- इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठाता

शुक्रवार दोपहर 12 बजे बृजभूषण अपने समर्थकों के साथ कोठी के बाहर निकले। मीडिया के सवाल पर उन्होंने कहा, मैंने पीएमओ और गृहमंत्री से कोई बात नहीं की। इस्तीफा का कोई सवाल ही नहीं उठता है। नंदनी नगर में ओपन नेशनल कुश्ती शुरू होने वाली है। वहीं, जा रहा हूं। शाम 4:00 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हम कुछ बोलेंगे। यह कहने के बाद वह अपने हजारों समर्थकों के साथ नंदिनी नगर स्टेडियम रवाना हो गए।

इसके पहले गुरुवार को भी कहा था कि मैं इस्तीफा नहीं दूंगा। मेरे खिलाफ कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुड्डा के इशारे पर राजनीति हो रही है। जो आरोप लगा रहे हैं, उनका करियर खत्म हो गया है। ज्यादातर पहलवान एक ही कम्युनिटी से हैं। पार्टी का जो आदेश मिलेगा, उसी को मानूंगा

सुबह जिम करने गए, पिछले दरवाजे से घर में दाखिल हुए

सांसद सुबह करीब 9 बजे जिम करने के लिए घर से गए। वहां करीब एक घंटे से ज्यादा वक्त तक रहने के बाद वह वापस घर आ गए। वह पिछले दरवाजे से घर में दाखिल हुए। सांसद का गोंडा के विश्ननोहरपुर में करीब 15 एकड़ का हवेली नुमा घर है। ताजा हालात को देखते हुए घर के बाहर की सिक्योरिटी बढ़ा दी गई है। वहां पुलिस और निजी गार्ड्स तैनात हैं।

देशभर की मीडिया का जमावड़ा

दिल्ली में पहलवानों के आरोपों के बाद यह पहला मौका है जब बृजभूषण अपनी बात रखेंगे। उनके घर के बाहर बड़ी संख्या में मीडिया का जमावड़ा लगा हुआ है। वहीं समर्थकों की भी भीड़ है। जहां बृजभूषण तुम संघर्ष करो जैसे नारे लग रहे हैं। भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ जारी देश की महिला पहलवानों के धरने का शुक्रवार को तीसरा दिन है। जंतर-मंतर पर चल रहे धरने में हरियाणा की खाप पंचायतें भी पहुंच सकती हैं। यानी मामला और तूल पकड़ सकता है।

बीजेपी विधायकों के साथ सांसद घर कर रहे मंथन

गोंडा पहुंचे सांसद बृजभूषण शरण सिंह के घर पूर्व राज्यमंत्री होमगार्ड पलटू राम, विधायक अजय सिंह, विधायक प्रेम नारायण पांडे, विधान परिषद सदस्य अवधेश कुमार उर्फ मंजू सिंह, ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि पंकज सिंह वजीरगंज, ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि गुड्डू सिंह बेलसर, पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री राम बहादुर सिंह सहित कई नेता मौजूद है। इनके साथ वो चर्चा कर रहे हैं।

वही भारतीय कुश्ती संघ अध्यक्ष पर विवाद के बाद नंदनी नगर कुश्ती प्रशिक्षण केंद्र में ट्रेनिंग ले रहे कुछ पहलवान उनके पक्ष में बयान दे रहे। खिलाड़ियों ने बताया कि भारतीय कुश्ती संघ द्वारा नियम में बदलाव कर रहे जिससे नेशनल व इंटरनेशनल खिलाड़ियों को कैंप में आकर मैट पर उतर ट्रायल देना पड़ेगा। इसका खिलाड़ी विरोध प्रदर्शन कर रहे। ट्रायल होने से खिलाड़ियों की प्रतिभा देखेगी। जो नए प्रतिभावान खिलाड़ियों को मौका मिलेगा जिससे प्रतिभावान खिलाड़ी आगे बढ़ेंगे।

फेडरेशन को 72 घंटे का अल्टीमेटम

इससे पहले गुरुवार को खेल मंत्रालय ने पीड़ित खिलाड़ियों को बुलाकर करीब एक घंटे तक बातचीत की थी। बातचीत से पहलवान संतुष्ट नहीं हुए। उनकी मांग पहले WFI अध्यक्ष को हटाने की थी, अब वे कुश्ती संघ को भंग कराना चाहते हैं। उन्होंने कहा- मांग पूरी होने तक उनका धरना-प्रदर्शन जारी रहेगा। खेल मंत्रालय ने कुश्ती संघ को नोटिस भेजकर जवाब के लिए 72 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। इसकी मियाद शनिवार रात यानी 21 जनवरी को खत्म होगी।

अनुराग ठाकुर के सामने पेश की सफाई

इस मामले के तूल पकड़ने पर बुधवार को बृजभूषण ने खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के सामने सफाई पेश की। सूत्रों का कहना है कि उनकी सफाई से मंत्रालय संतुष्ट नहीं है। मंत्रालय मानता है कि खिलाड़ियों और महासंघ में संवादहीनता की स्थिति गंभीर स्तर पर पहुंच गई थी। दूसरी ओर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने भी खेल मंत्री से बात कर चिंता जाहिर की। बृहस्पतिवार को उन्होंने आरोपों को गंभीर बताते हुए खिलाड़ियों का समर्थन किया।

जानिए WFI अध्यक्ष पर लगे आरोप और मामले को?

WFI अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह और कुछ कोच पर ओलिंपिक विजेता खिलाड़ियों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। दिल्ली के जंतर-मंतर पर 200 से ज्यादा खिलाड़ी बुधवार यानी 18 जनवरी से धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं।

धरने पर बैठीं एक महिला पहलवान का आरोप है कि राष्ट्रीय प्रतियोगिता में आगे बढ़ने के लिए एक कोच ने उन्हें ‘साथ’ देने का दबाव डाला था। महिला पहलवान ने कहा वह पुलिस काे बयान देने को तैयार हैं।

पहलवान अंशु मलिक ने आरोप लगाया है कि संघ के अध्यक्ष सिंह नियम विरुद्ध होटल में महिला पहलवानों के सामने वाले कमरे में रहते थे। सिंह हमेशा अपने कमरे का दरवाजा खुला रखते थे। हम सभी डर के साए में टूर्नामेंट खेलती थीं।

Leave a Reply

Required fields are marked *