नई दिल्ली:लेफ्टिनेंट कर्नल से कर्नल रैंक पर प्रमोट होंगी 108 महिलाएं:सिलेक्शन बोर्ड के लिए 60 महिला अधिकारियों को बुलाया गया, इसी महीने होगी तैनाती

नई दिल्ली:लेफ्टिनेंट कर्नल से कर्नल रैंक पर प्रमोट होंगी 108 महिलाएं:सिलेक्शन बोर्ड के लिए 60 महिला अधिकारियों को बुलाया गया, इसी महीने होगी तैनाती

भारतीय सेना ने महिला अधिकारियों को लेफ्टिनेंट कर्नल कि पोस्ट से कर्नल रैंक पर प्रमोशन देने का फैसला किया है। इसमें 108 महिला अधिकारियों को प्रमोट किया जाएगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इसकी प्रक्रिया 9 जनवरी से शुरू हुई है, जो 22 जनवरी तक चलेगी।

ये फैसला इसलिए लिया गया है ताकि भारतीय सेना में पुरुष और महिला को बराबर लाया जा सके। इसके लिए सरकार की ओर से स्पेशल नंबर-3 सिलेक्शन बोर्ड के लिए वैकेंसी भी जारी कर दी गई है। चयन बोर्ड के लिए ऑब्जर्वर के तौर पर 60 प्रभावित महिला अधिकारियों को बुलाया गया है।

22 जनवरी को चयन बोर्ड की प्रक्रिया खत्म हो जाएगी। इसके बाद फिट घोषित की गई 108 महिला अधिकारियों को विभिन्न कमांड असाइनमेंट पर इसी महीने तैनात करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी जाएगी।

244 में से 108 महिला अधिकारियों का होगा सिलेक्शन

सेना के अधिकारियों ने बताया कि 1992 से 2006 बैच की विभिन्न शस्त्र और सेवा (इंजीनियर, सिग्नल, आर्मी एयर डिफेंस, इंटेलिजेंस कोर, आर्मी सर्विस कोर, आर्मी ऑर्डिनेंस कोर, इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल इंजीनियर) में 108 कर्नल रैंक पोस्ट हैं। इसके लिए 244 महिला अधिकारी दावेदार हैं, जिनमें केवल 108 का ही प्रमोशन किया जाएगा।

पुरुष के बराबर अवसर देने स्थायी कमीशन भी शुरू

महिलाओं को समान अवसर देने के लिए भारतीय सेना ने महिला अधिकारियों को पुरुष के बराबर स्थायी कमीशन (PC) देना शुरू कर दिया है। जिन महिला अधिकारियों को PC दी गई है, वे टॉप लीडरशिप सेवाओं में अपनी भूमिकाओं के लिए स्पेशल ट्रेनिंग कोर्स और चैलेंजिंग मिलिट्री असाइनमेंट पर काम कर सकती हैं।

इसके साथ ही जूनियर बैच में भी महिला अधिकारियों के लिए परमानेंट कमीशन शुरू हो गया है, जिसमें उनकी सेवा के 10वें साल में PC के लिए विचार किया जाता है।

ये परीक्षा पास कर पांच महिलाओं ने इतिहास रचा

इतिहास में पहली बार पांच महिला अधिकारियों ने प्रतिष्ठित रक्षा सेवा स्टाफ कोर्स (DSSC)और रक्षा सेवा तकनीकी स्टाफ कोर्स (DSTSC) परीक्षा पास की है। ये परीक्षा सालाना सितंबर के महीने में होती है। इन पांचों अधिकारियों को एक साल का कोर्स करना होगा, इसके बाद कमांड सिलेक्शन में इनको एक्स्ट्रा वेटेज मिलेगा।


Leave a Reply

Required fields are marked *