टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम आया दाऊद इब्राहिम, दिया बड़ा ऑफर, कपिल बोले- चल बाहर

टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम आया दाऊद इब्राहिम, दिया बड़ा ऑफर, कपिल बोले- चल बाहर

नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट में ड्रेसिंग रूम की कई कहानियां हैं, जो बेहद दिलचस्प हैं. खिलाड़ियों की आपसी बातचीत, उनके झगड़े, रैगिंग, मस्ती-मजाक खिलाड़ियों के जीवन से जुड़ी कई खास बातें ड्रेंसिंग रूम से जुड़ी हैं. लेकिन 17 अप्रैल, 1986 को जो भारतीय ड्रेसिंग रूम में हुआ, वह सबसे यादगार है. दुबई के शारजाह स्टेडियम में ऑस्ट्रेलिया एशिया कप 1987 के बहुचर्चित भारत बनाम पाकिस्तान फाइनल से एक दिन पहले था. भारतीय ड्रेसिंग रूम में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम ने कदम रखा और खिलाड़ियों को एक ऑफर दिया, लेकिन कपिल देव जैसे ही ड्रेसिंग रूम में घुसे उन्होंने दाऊद इब्राहिम को बाहर का रास्ता दिखा दिया. इस घटना के बारे में पूर्व भारतीय क्रिकेटर दिलीप वेंगसरकर ने काफी वक्त पहले एक कार्यक्रम के दौरान जिक्र किया था. कपिल देव ने भी बाद में इस घटना की पुष्टि की थी.

दिलीप वेंगसरकर के मुताबिक, मैच से पहले दाऊद इब्राहिम हमारे ड्रेसिंग रूम मे आया था. बॉलीवुड के कॉमेडियन महमूद भी उनके साथ थे. दाऊद ने ड्रेसिंग रूम में आकर खिलाड़ियों से कहा कि अगर वे कल पाकिस्तान को मैच में हरा देंगे तो वह हर एक खिलाड़ी को टोयोटा कार दूंगा. सभी क्रिकेटर्स एक-दूसरे को देख रहे थे, जब भारतीय कप्तान कपिल देव मैच से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद ड्रेसिंग रूम में पहुंचे. कपिल देव ने ड्रेसिंग रूम में आकर कहा कि उन्हें खिलाड़ियों से बात करनी है. कपिल देव को ड्रेसिंग रूम में किसी भी बाहर के मौजूदगी पसंद नहीं थी इसलिए वह महमूद को कहते हैं कि आप बाहर जाइए. इसके बाद वह दाऊद इब्राहिम को देखते हैं और उससे कहते हैं- चल बाहर चल.

हालांकि, कपिल देव ने इस घटना से कभी भी पूरी तरह इंकार नहीं किया था, लेकिन इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में पूर्व भारतीय कप्तान ने थोड़ा अलग किस्सा बताया था. कपिल देव ने कहा था, ”हां, मुझे याद है कि शारजाह में एक मैच के दौरान एक जैंटलमैन हमारे ड्रेसिंग रूम में आए और खिलाड़ियों से बात करना चाहते थे, लेकिन मैंने उन्हें तुरंत ड्रेसिंग रूम से चले जाने को कहा क्योंकि बाहरी लोगों को जाने की इजाजत नहीं थी. उन्होंने मेरी बात सुनी और फिर बिना कुछ कहे ड्रेसिंग रूम से बाहर चले गए. बाद में किसी ने मुझे बताया कि वह बंबई का एक स्मगलर है और उसका नाम दाऊद इब्राहिम है. इसके आगे कुछ नहीं हुआ था.”

कपिल देव ने कहा था कि उन्हें खिलाड़ियों को टोयोटा कारों की पेशकश की जानकारी नहीं थी. उन्होंने कहा, “मेरी जानकारी में तब ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं आया था. अगर दिलीप अभी कह रहे हैं, तो वह मुझसे ज्यादा जानते होंगे.” वेंगसरकर ने जलगांव में एक समारोह में कहा था, ”दाऊद ने कहा था कि अगर आप लोग टूर्नामेंट जीतते हैं, तो मैं आप सभी को एक-एक टोयोटा कार दूंगा. टीम द्वारा प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया गया था.”

Leave a Reply

Required fields are marked *