दिल्ली में मेयर चुनाव के पहले हंगामा:AAP और BJP पार्षदों के बीच धक्का-मुक्की, हाथापाई कई गिरे आसन से,आईं चोटें

दिल्ली में मेयर चुनाव के पहले हंगामा:AAP और BJP पार्षदों के बीच धक्का-मुक्की, हाथापाई कई गिरे आसन से,आईं चोटें

दिल्ली में MCD के मेयर, डिप्टी मेयर और स्थायी समिति के सदस्यों के चुनाव की प्रक्रिया हंगामे की वजह से शुक्रवार को नहीं हो पाई। चार घंटे चले हंगामे के बाद चुनावी प्रक्रिया को स्थगित कर दिया गया। ऐसे में माना जा रहा है कि मेयर चुनाव टल सकता है। उधर, आप ने इस मुद्दे पर कोर्ट जाने के संकेत दिए हैं।

इससे पहले सुबह 11 बजे पार्षदों का शपथ ग्रहण शुरू होना था, लेकिन प्रोटेम स्पीकर ने सबसे पहले मनोनीत सदस्यों को जैसे ही शपथ दिलानी शुरू की। आम आदमी पार्टी (AAP) के सदस्यों ने विरोध शुरू कर दिया। इससे बीजेपी पार्षद भी इनके खिलाफ नारेबाजी करने लगे। दोनों के बीच धक्का-मुक्की और हाथापाई हुई। AAP के पार्षद प्रोटेम स्पीकर के आसन पर चढ़ गए। इस दौरान कुछ पार्षद कुर्सी उठाकर पटकते देखे गए। कुछ धक्के में नीचे गिर गए। कुछ को चोटें आईं।

अब जानिए... विवाद कहां से शुरू हुआ

एलजी ने मेयर चुनाव के लिए बीजेपी की पार्षद सत्या शर्मा को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया। AAP ने मुकेश गोयल का प्रस्ताव रखा था। इस पर भी AAP ने आपत्ति जताई। इसके बाद प्रोटेम स्पीकर ने जैसे ही एलजी के मनोनीत सदस्यों को शपथ दिलानी शुरू की तो आम आदमी पार्टी ने विरोध और नारेबाजी शुरू कर दी।

आम आदमी पार्टी का कहना है कि मनोनीत सदस्यों की शपथ पहले नहीं होती है, लेकिन भाजपा परंपरा बदल रही है। भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने कहा कि AAP नेताओं को नियमों की जानकारी नहीं है। इसलिए वह हंगामा कर रहे हैं। जब वे बहुमत में हैं, तो वे क्यों डरते हैं? यही काम आप सांसद राज्यसभा में भी करते हैं।

उधर, कांग्रेस ने मेयर चुनाव में शामिल नहीं होने का फैसला किया। आप विधायक आतिशी ने चुनाव न लड़ने के फैसले के बाद कांग्रेस पर भाजपा को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया है। मेयर के चुनाव में 273 मेंबर्स वोट डालेंगे। बहुमत के लिए 133 का आंकड़ा चाहिए। AAP के पास 150 तो BJP के पास 113 वोट हैं।

एलजी का पक्ष आया, 10 मनोनीत सदस्य एक्ट के तहत

दिल्ली के एलजी वीके सक्सेना ने ऑफिस की तरफ एक बयाना आया। इसमें कहा गया कि दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन 1957 एक्ट के तहत 10 लोगों को मनोनीत किया गया है।

AAP का भाजपा नेताओं पर मारपीट और हमले का आरोप

सांसद संजय सिंह ने कहा कि मनोनीत सदस्यों की पहले शपथ नहीं होती है, लेकिन भाजपा परंपरा बदल रही है। उनके लोग हमारे पार्षदों को सदन के अंदर मार रहे हैं। संजय ने सवाल करते कहा कि दिल्ली की जनता ने चुनाव में भाजपा को हरा दिया तो क्या उनके नेता हमारे लोगों की जान लेंगे।

BJP ने कहा- हमारी महिला पार्षदों के बाल खींचे

भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने कहा कि MCD के इतिहास में आज सबसे काला दिन है। AAP पार्षदों ने शराब पीकर सदन में BJP की महिला पार्षदों के साथ मारपीट की। नुकीली चीजों से हमला किया और बाल पकड़कर खींचे। उन्हें गंदी-गंदी गालियां भी दीं।

भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि केंद्र में हमारी पार्टी सत्ता में है और MCD में हमारे नंबर ठीक-ठाक हैं। इसके बावजूद हमारे साथ गुंडागर्दी हो रही है। AAP ने सदन को गुंडागर्दी का अखाड़ा बना दिया है, क्योंकि उन्हें डर है कि मेयर की वोटिंग में उनके पार्षद ही साथ नहीं देंगे।

AAP की कैंडिडेट शैली और BJP की रेखा के बीच मुकाबला

मेयर के लिए आप आदमी पार्टी ने शैली ओबेरॉय को मैदान में उतारा है, जबकि BJP की ओर से रेखा गुप्ता मैदान में हैं। वहीं, डिप्टी मेयर के लिए AAP ने मोहम्मद इकबाल और कमल बागड़ी को BJP ने उम्मीदवार बनाया है।

चुनाव में 3 रंग के बैलेट पेपर का इस्तेमाल होगा

इस चुनाव के लिए कलर कोड तय किया गया है। वाइट, ग्रीन और पिंक रंग के बैलेट पेपर का इस्तेमाल किया जाएगा। इसमें मेयर के लिए वाइट बैलेट पेपर से वोट डाले जाएंगे। डिप्टी मेयर चुनाव के लिए ग्रीन बैलट पेपर और स्टैंडिंग कमेटी के मेंबर्स के लिए पिंक बैलेट पेपर का यूज होगा।

बहुमत AAP के पास

मेयर के चुनाव में 273 मेंबर्स वोट डाले जाएंगे। बहुमत के लिए 138 का आंकड़ा चाहिए। कांग्रेस के गैरहाजिर होने पर 133 का आंकड़ा चाहिए। AAP के पास 134 पार्षद हैं। इसके अलावा 3 राज्यसभा सांसद और 13 विधायक हैं। भाजपा के पास 7 सांसद और 1 विधायक मिलाकर कुल 113 वोट हैं। वहीं, कांग्रेस के 9 पार्षद और निर्दलीय दो पार्षद हैं। इस चुनाव में 250 पार्षदों के साथ 10 सांसद (7 लोकसभा सांसद और 3 राज्यसभा सांसद), 13 विधानसभा सदस्य वोट डालेंगे।

कांग्रेस बोली- AAP को बहुमत मिला है तो केजरीवाल अपना मेयर बनाएं

दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अनिल चौधरी ने कहा कि दिल्ली की लोगों ने आम आदमी पार्टी को समर्थन दिया है। जनता का सम्मान करते हुए हम मेयर, डिप्टी मेयर और स्थायी समिति का चुनाव नहीं लड़ेंगे। AAP को बहुमत मिला है तो केजरीवाल अपना मेयर बनाएं और दिल्ली की जनता की सेवा करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *