7°C पर संगम में माघ मेला शुरू 40 दिन का:पुआल और बर्तन लेकर पहुंचे कल्पवासी,तंबुओं का शहर 8 किमी. के दायरे में बसा

7°C पर संगम में माघ मेला शुरू 40 दिन का:पुआल और बर्तन लेकर पहुंचे कल्पवासी,तंबुओं का शहर 8 किमी. के दायरे में बसा

प्रयागराज में शुक्रवार को 7 डिग्री सेल्सियस की कड़ाके की ठंड के बीच पौष पूर्णिमा स्नान के साथ माघ मेले का आगाज हो गया। लाखों की तादाद में श्रद्धालु पहुंच चुके हैं। वहीं, कल्पवासी ने भी डेरा जमा लिया है। 8 किमी. के दायरे में तंबुओं का शहर बस चुका है। एक तरफ जप-तप और ध्यान के कल्पवास की शुरुआत, दूसरी तरफ सिर पर आस्था की गठरी लिए श्रद्धालु संगम की तरफ बढ़ते आ रहे हैं। गंगा किनारे 40 दिनों के कल्पवास के लिए जो श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। वह ज्यादातर बर्तन और अपने रोजमर्रा का सामान लेकर पहुंचे हैं।

6 जनवरी को पौष पूर्णिमा के प्रथम स्थान पर्व पर 14 पक्के घाट तैयार किए गए हैं। पौष पूर्णिमा के पहले स्नान पर्व के लिए 14 स्थाई घाट तैयार किए गए हैं। इन स्नान घाटों पर महिलाओं के लिए चेंजिंग रूम तैयार किया गया है। घाटों पर साफ-सफाई की विशेष व्यवस्था है। उन्हीं 14 घाटों पर श्रद्धालु स्नान कर रहे हैं। यहां 16 प्रवेश द्वार है। सभी पर कोविड हेल्प डेस्क है। 5 पांटून पुल बनाए गए हैं।

संगमनगरी प्रयागराज भक्तों के स्वागत के लिए तैयार है। 6 जनवरी यानी आज माघ मेले का पहला स्नान है। इसे पौष पूर्णिमा का स्नान भी कहते हैं। इसके लिए संगम की रेती पर 8 किमी. के दायरे तंबुओं का शहर बसाया गया है। पहले स्नान और कल्पवास के लिए भक्तों के आने का सिलसिला शुरू हो गया है। इसके लिए 14 स्नान घाट तैयार किए गए हैं। इस बार देश-दुनिया से करीब 6 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है। यह पर्व 18 फरवरी को महा शिवरात्रि स्नान के साथ संपन्न होगा

Leave a Reply

Required fields are marked *