शीतकालीन सत्र हरियाणा विधानसभा का.बॉन्ड पॉलिसी पर सवाल पूछा.अध्यक्ष बोले- कोर्ट में विचाराधीन केस पर चर्चा नहीं

शीतकालीन सत्र हरियाणा विधानसभा का.बॉन्ड पॉलिसी पर सवाल पूछा.अध्यक्ष बोले- कोर्ट में विचाराधीन केस पर चर्चा नहीं

हरियाणा विधानसभा का 3 दिन शीतकालीन सत्र शुरू हो गया है। पहले दिन की शुरूआत में CM मनोहर लाल शोक संदेश पढ़ते हुए सदन की तरफ से श्रद्धांजलि दी। इनमें सिक्किम के शहीदों को भी श्रद्धांजलि दी गई। सिक्किम हादसे में हरियाणा के हिसार से सोमवीर, फतेहाबाद से विकास और चरखीदादरी से अरविंद सांगवान शहीद हुए थे।

जिसके बाद प्रश्नकाल शुरू हो गया है। मंत्री विधायकों के सवालों के जवाब दे रहे हैं।

यमुनानगर के रादौर से विधायक बिशन ने वित्तीय रूप से कमजोर नगर समितियों को आर्थिक सहायता देने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने समितियों को 15 करोड़ फंड देने की घोषणा की थी लेकिन वह शायद भूल गए हैं। इस पर सीएम मनोहर लाल ने कहा कि समितियों को जरूरत के हिसाब पैसा जरूर दिया जाएगा। एक दो समितियां ही हैं जिनका कुछ पैसा रुका हुआ है, जल्द जारी कर दिया जाएगा। मैंने ऐसे नहीं कहा कि सबको 15-15 करोड़ रुपए देंगे।

रोहतक से विधायक बलराज कुंडू ने MBBS बॉन्ड पॉलिसी का मुद्दा उठाया। इस पर स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने विस अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता से पूछा कि क्या जो मामला कोर्ट में हो, उसके बारे में सदन में चर्चा की जा सकती है। अध्यक्ष ने नियमों का हवाला देकर इससे इनकार किया। बलराज कुंडू ने कहा कि चर्चा हो सकती है, इस पर अध्यक्ष ने उन्हें नियम पढ़कर सुनाया। जिसमें कहा गया कि कोर्ट में विचाराधीन केस में ऐसी चर्चाओं से सदन में बचा जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने सिक्किम में शहीद हुए सैनिकों के लिए शोक प्रकट किया।

बेटे को विधानसभा में देखने के लिए पूर्व विधायक कुलदीप बिश्नोई और रेणुका बिश्नोई 10.30 बजे ही विधानसभा की विजिटर गैलरी में पहुंचे, जबकि विधानसभा सत्र 11 बजे शुरू हुआ।

हरियाणा शीतकालीन सत्र से ठीक पहले हरियाणा कांग्रेस ने विधायक दल की बैठक बुला ली है। बैठक में पार्टी के सभी विधायक मौजूद हैं। पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी मौजूद हैं। बताया जा रहा है कि बैठक में सत्र के दौरान सरकार पर कई मुद्दों को लेकर हमला किया जाएगा। भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने भी राज्य की टूटी सड़कों, बिजली, पानी को लेकर सरकार पर सवाल खड़े किए थे।

हरियाणा का विधानसभा सत्र तीन दिवसीय होेगा। BAC की बैठक में यह फैसला लिया गया। बैठक में विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और नेता प्रतिपक्ष पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा मौजूद रहे।

सत्र के दौरान होने वाले विपक्षी के हमलों को लेकर बीजेपी ने सरकार की उपलब्धियां गिनाने और विपक्षियों की काट के लिए पूरी रणनीति तैयार कर चुकी है। CM मनोहर लाल ने बॉन्ड पॉलिसी से लेकर तमाम मुद्दों पर आंकड़ों के साथ जवाब देने के लिए तैयारी की है। सत्ताधारी पार्टियों के विधायकों ने भी अपने-अपने हलके की समस्याओं और लंबित चल रही परियोजनाओं को लेकर सवाल लगाए हैं।

Leave a Reply

Required fields are marked *