गाजियाबाद: बैंक ने गिरवी रखे जेवरात बेचे; स्मॉल फाइनेंस बैंक का कारनामा, दो बैंक मैनेजरों पर दर्ज हुई FIR

गाजियाबाद: बैंक ने गिरवी रखे जेवरात बेचे; स्मॉल फाइनेंस बैंक का कारनामा, दो बैंक मैनेजरों पर दर्ज हुई FIR

गाजियाबाद: जना स्मॉल फाइनेंस बैंक लिमिटेड आर्यनगर में धोखाधड़ी का केस सामने आया है। आरोप है कि बैंक ने लोन देकर गिरवीं रखे जेवरात बिना किसी सूचना के बेच दिए। पुलिस ने इस संबंध में बैंक के मुख्य प्रबंधक और शाखा प्रबंधक के खिलाफ FIR दर्ज कर ली है।

इस्लाम नगर कैला निवासी फिरोज के अनुसार, साल-2019 में उसको कुछ रुपयों की जरूरत थी। वो न्यू आर्यनगर स्थित जना स्मॉल फाइनेंस बैंक में पहुंचा। 13 नवंबर 2019 को करीब डेढ़ लाख रुपए के जेवरात गिरवीं रखकर उसने बैंक से 82900 रुपए का लोन प्राप्त किया। फिरोज ने बताया कि कोरोना में लॉकडाउन लगने से काम धंधे बंद हो गए। इस वजह से वो समय पर किश्त नहीं चुका पाया। फरवरी-2022 में काम धंधा पुन: शुरू होने पर जब वो किश्त जमा करने के लिए बैंक में पहुंचा तो जानकारी हुई कि उसके जेवरात बेच दिए गए हैं।

फिरोज ने नीलामी की सार्वजनिक सूचना कॉपी, नीलामी की तारीख, खरीदने वाले व्यक्ति का नाम-पता आदि सूचना बैंक से मांगी, लेकिन बैंक ने उसे कोई सूचना नहीं दी। उसने यही सूचना RTI के जरिए बैंक के बंगलुरू स्थित हैडऑफिस से मांगी, लेकिन वहां से भी कोई जवाब नहीं मिला। फिरोज का कहना है कि 23 जुलाई 2022 को उन्होंने थाना सिहानी गेट में एप्लीकेशन दी। पुलिस ने भी एक नहीं सुनी। आखिरकार फिरोज कोर्ट में गए। अब कोर्ट के आदेश पर शुक्रवार को सिहानी गेट थाना पुलिस ने मुख्य प्रबंधक और शाखा प्रबंधक के विरुद्ध IPC सेक्शन- 418, 420, 424, 403, 406, 120बी, 323, 504, 506 और दफा 34 में मुकदमा दर्ज कर लिया है। केस की जांच सब इंस्पेक्टर संतोष कुमार को सौंपी गई है।

Leave a Reply

Required fields are marked *