UP: बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी में बवाल, 4 स्टूडेंट्स के सिर फूटे; रैगिंग को लेकर जूनियर्स को लाठी-डंडों से पीटा 5 घंटे तक उपद्रव-पथराव

UP: बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी में बवाल, 4 स्टूडेंट्स के सिर फूटे; रैगिंग को लेकर जूनियर्स को लाठी-डंडों से पीटा 5 घंटे तक उपद्रव-पथराव

झांसी की बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी में रैगिंग को लेकर सीनियर्स और जूनियर्स भिड़ गए। देर रात इसके कारण पांच घंटे तक कैंपस में उपद्रव हुआ। सीनियर्स ने जूनियर्स स्टूडेंट्स को कैंपस में दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। हमले में 10 से ज्यादा छात्रों को चोट आई हैं। 4 के सिर फट गए हैं।

बताया जा रहा है कि सीनियर्स ने इंट्रो लेने के लिए जूनियर्स को हॉस्टल बुलाया था। लेकिन, यह जूनियर्स कैंपस के बाहर किराए पर रहते हैं। ऐसे में उन्होंने मना कर दिया। इसी बात पर सीनियर्स नाराज हो गए। बुधवार को 40- 45 सीनियर्स ने यूनिवर्सिटी कैंपस में कार्यक्रम देखने आए 12 जूनियर छात्रों की घेराबंदी करके लाठी-डंडों से पीटा।

जूनियर छात्रों ने हॉस्टल के गेट पर किया प्रदर्शन

वहीं, नाराज जूनियर्स गुरुवार को हॉस्टल के गेट एकत्र होकर नारेबाजी की। छात्रों ने कहा कि मारपीट करने वाले सीनियर्स को यूनिवर्सिटी से निष्कासित कर पुलिस के हवाले किया जाए। साथ ही छात्रों ने चीफ प्रॉक्टर इस्तीफा दें।

सीनियर्स छात्रों ने भी किया प्रदर्शन, कहा-जूनियर्स आए दिन करते हैं विवाद

वहीं, सीनियर्स छात्रों ने लॉर्ड बुद्धा हॉस्टल के बाहर प्रदर्शन किए। उनका कहना है कि जूनियर्स आए दिन विवाद करते रहते हैं। जिन चार लोगों के खिलाफ पुलिस ने FIR दर्ज की है। उनमें दो छात्र वहां मौजूद ही नहीं थे।

जूनियर्स बोले- रैगिंग के लिए बुला रहे थे सीनियर

बीटेक फर्स्ट ईयर के छात्र संस्कार ने कहा मैं यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में न रहकर बाहर रहता हूं। लॉर्ड बुद्धा हॉस्टल के सीनियर रात को फोन करके रैगिंग के लिए बुलाते हैं। गालियां देते हैं। मैंने अपने HOD को बताया। उन्होंने कहा कि फोन स्विच ऑफ कर दो। तब मैंने उनकी बात मान ली। हालांकि, फोन ऑन करते ही उनके कॉल दोबारा आने लगते हैं और पूछते हैं कि इंट्रो के लिए क्यों नहीं आ रहे हो? तब मैंने कहा कि हम बाहर रहते हैं, हॉस्टल में इंट्रो देने नहीं आएंगे। क्योंकि, वे हॉस्टल बुलाकर इंट्रो के नाम पर 5-5 घंटे बैठाकर रैगिंग करते हैं।

पहले फोटो मंगाई, फिर पीटा

छात्र संस्कार ने कहा, इंट्रो के लिए नहीं गए तो हॉस्टल के सीनियर साजिश रचने लगे। फर्स्ट बैच के जो लड़के यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में रहते हैं उनसे मंगलवार को बाहर रहने वाले लड़कों के फोटो और वीडियो मंगवाए। हम इस बात को समझ नहीं पाए। बुधवार शाम को ऑडिटोरियम में प्रोग्राम चल रहा था। मेरे साथ फर्स्ट ईयर के 12 स्टूडेंट्स प्रोग्राम में शामिल होने के लिए गए थे।

यूनिवर्सिटी के कैंपस के अंदर हुआ उपद्रव

छात्र संस्कार ने बताया प्रोग्राम खत्म होने पर शाम 6 बजकर 30 मिनट पर हम लोग बाहर निकले तो हॉस्टल के 40 से 45 सीनियर लाठी-डंडे लेकर खड़े थे। तब जूनियर ने अपने साथियों को बुला लिया। दोनों के बीच बातचीत के दौरान विवाद हो गया। संख्या ज्यादा होने पर हॉस्टल के सीनियर ने जूनियर को पीट दिया। हमले में फर्स्ट ईयर के दीपक वर्मा, साहिल सिंह, सेकंड ईयर के अंकित वर्मा और जीशाम के सिर पर चोट लगी है

पहले सीनियर्स ने, फिर जूनियर्स ने खदेड़ा

हमले के बाद पथराव शुरू हो गया। जूनियर स्टूडेंट्स बचने के लिए बाहर की तरफ भागे। तब सीनियर उनको दौड़-दौड़ाकर पीटने लगे। करीब 300 मीटर दूर कैंपस के बाहर बड़ी संख्या में जूनियर पहुंच गए। फिर रात 11 बजकर 30 मिनट पर जूनियर ने पीटते हुए सीनियर को खदेड़ दिया। कई घंटे तक दोनों तरफ से पथराव और हंगामा हुआ।

तमाशबीन बने रहे सिक्योरिटी गार्ड

पूरे उपद्रव के दौरान यूनिवर्सिटी के सिक्योरिटी गार्ड तमाशबीन बने रहे। मारपीट और पथराव के दौरान गार्डों ने न तो बीच बचाव किया और न ही उपद्रवियों को पकड़ने की कोशिश की। छात्रों ने आरोप लगाया कि जब सीनियर पीटते हुए गेट पर आए तो सिक्योरिटी गार्ड मौजूद थे। न तो सिक्योरिटी गार्ड ने उनको रोकने की कोशिश की न ही गेट बंद किया।

यूनिवर्सिटी पर पक्षपात का आरोप

वहीं, अपने साथियों को घायल देखकर जूनियर्स भड़क गए। वे इकट्‌ठा होकर यूनिवर्सिटी गेट पर पहुंचे। कानपुर रोड पर जाम लगाने की कोशिश की। पुलिस ने समझाकर जाम खुलवा दिया। इसके बाद छात्र गेट के बाहर धरने पर बैठ गए। यूनिवर्सिटी प्रबंधन पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए छात्रों ने कहा कि पहले भी कई बार सीनियर इस तरह की हरकतें कर चुके हैं। मगर, कोई कार्रवाई नहीं होती।

सूचना पर यूनिवर्सिटी के परीक्षा नियंत्रक राजबहादुर, एसपी सिटी राधेश्याम राय समेत कई थानों की फोर्स पहुंची। देर रात छात्रों को समझाने के बाद मामला शांत हुआ।

आज दोनों पक्षों को बुलाया गया

SP सिटी राधेश्याम राय का कहना है कि सीनियर ने जूनियर के साथ मारपीट की है। जूनियर स्टूडेंट्स की तहरीर पर तनुज गंगवार, दुर्गेश चौरसिया, विशाल राजपूत, श्रेष्ठ द्विवेदी समेत 40 अन्य के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। पूरे मामले की जांच की जा रही है। यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने गुरुवार को दोनों पक्षों को बुलाया है। दूसरे पक्ष की भी बात सुनी जाएगी।

कानपुर मेडिकल कॉलेज में रैगिंग

GSVM मेडिकल कॉलेज में फ्रेशर्स छात्रों से रैगिंग का वीडियो सामने आया था। इसमें छात्र लाइन से जाते हुए नजर आ रहे थे। वायरल वीडियो में सभी छात्र सिर झुकाए थे। दोनों हाथ पीछे थे। मिलिट्री कट बाल कटाए थे। लाइन लगा कर हॉस्टल की तरफ जा रहे थे। छात्र नमस्ते डॉक्टर भी बोल रहे थे। प्रिंसिपल ने इसे बदनाम करने की साजिश बताते हुए स्वरूप नगर थाने में अज्ञात के खिलाफ तहरीर दी थी।

वायरल वीडियो में MBBS वर्ष 2022 के पैरा क्यू-टू बैच के नए छात्र लाइन लगाकर ब्वॉयज हॉस्टल-5 में जाते हुए दिख रहे हैं। अधिकतर के बाल छोटे हैं और सभी अपने हाथ पीछे किए सिर झुकाए चल रहे हैं

Leave a Reply

Required fields are marked *