6 साल की पुलिस सर्विस के बाद डॉन नीलाम

6 साल की पुलिस सर्विस के बाद डॉन नीलाम

मथुरा RPF में तैनात डॉन से अपराधी कांपते थे। लेकिन अब डॉन की नीलामी कर दी गई है। डॉन नामक डॉग की नीलामी उसके मेडिकल अनफिट होने के कारण की गई। 7 वर्ष तक रेलवे सुरक्षा बल में राजपत्रित अधिकारी के पद पर तैनात रहा डॉन नए घर में जाने से पहले उदास नजर आया। वहीं उसके जाने से RPF कर्मियों की आंखें भी नम हो गई।

7 वर्ष के डॉन ने 6 वर्ष तक की रेलवे पुलिस में सेवा

अपराधियों को पकड़वाने में मथुरा आरपीएफ के साथ पिछले 6 साल से अहम भूमिका में रहा डॉग डॉन सेवानिवृत्त हो गया। 7 साल के डॉन ने अपनी सेवाओं के दौरान करीब डेढ़ दर्जन से अधिक चोरी एवं अन्य आपराधिक घटनाओं को वर्क आउट करने में अहम भूमिका निभाई। मेडिकली अनफिट होने की वजह से आरपीएफ ने मंगलवार को कागजी औपचारिकताएं पूरी करते हुए उसकी सेवानिवृत्ति के साथ ही नीलामी की। जिसके बाद उसे मथुरा में एक नया आसरा मिल गया है। जहां अब डॉन नए लोगों के साथ अपना समय बिताएगा।

6 महीने डॉन ने तमिलनाडु में की ट्रेनिंग

7 वर्षीय लेब्राडोर प्रजाति का श्वान डॉन तीन माह का था जब इसे 2015 में आरपीएफ में लाया गया था। 2016 में रेलवे सुरक्षा बल के श्वान दस्ता में शामिल हुआ डॉन ट्रेनिंग के लिए तमिलनाडु गया । तमिलनाडु में छह माह की इसको विशेष प्रशिक्षण दिलाया गया और उसके बाद श्वान दस्ते में शामिल होकर यह अपराधियों को ट्रैक करने में अहम रोल निभाने लगा।

10 हजार रुपए थी डॉन की सैलरी

डॉन की देखभाल और डाइट के लिए प्रतिमाह 10 हजार का खर्चा किया जाता था। जबकि बाकी सुविधाएं एक राजपत्रित अधिकारी के समान मिलती थी। डॉन को कमांड देने वाले हैंडलर ए एस आई राम गोपाल ने बताया कि डॉन की रीढ़ की हड्डी में कुछ दिक्कत हुई जिसके बाद 12 सितम्बर 2022 को उसे मेडिकली अनफिट कर दिया। क्योंकि जंप करने और दौड़ने में उसे परेशानी होती थी। हालांकि डॉन का 31 अगस्त 2025 में उसे सेवानिवृत्त होना था। लेकिन उसकी मेडिकल कंडीशन को देखते हुए मंगलवार को सेवानिवृत्त करते हुए नीलामी की गई।

10550 रुपए में नीलाम हो गया डॉन

मथुरा और आगरा के 4 लोग डॉन को लेने के लिए नीलामी में शामिल हुए। 6 हजार से शुरू हुई बोली 10 हजार 550 रुपए तक पहुंची और डॉन मथुरा के गोवर्धन चौराहा निवासी वरुण सक्सेना के परिवार का नया सदस्य बन गया है। डॉन को गले में फूलों की माला पहनाकर आरपीएफ श्वान दस्ता के स्टाफ ने जब उसे विदाई दी तो उनकी भी आंखें नम हो गई। श्वान दस्ता में तैनात दिनेश भारद्वाज ने बताया कि आरपीएफ श्वान दस्ते में अभी तक डॉन और टॉम दो श्वान थे लेकिन डॉन के रिटायर होने के बाद अब केवल टॉम ही रह गया है।

ट्रेंड डॉग ले कर वरुण हुए खुश

नीलामी में दिन को लेने वाले वरुण सक्सेना ने बताया कि वह अभी तक डॉग लवर हैं। अभी तक स्ट्रीट डॉग पालते थे। रविवार को पता चला कि आरपीएफ में ट्रेंड डॉग की नीलामी होगी। इसके बाद मंगलवार को आरपीएफ के डॉग दस्ता पहुंचे और वहां नीलामी प्रक्रिया में भाग लिया। इस दौरान डॉन को देखकर बोली बढ़ाता चला गया और 10 हजार 550 रुपए में ले लिया। यह ट्रेंड डॉग है घर के लोगों में आसानी से घुल मिल जायेगा।

Leave a Reply

Required fields are marked *