मध्यावधि चुनाव: डेमोक्रेटिक पार्टी का अमेरिकी सीनेट पर नियंत्रण, रिपब्लिकन की उम्मीदें धराशायी

मध्यावधि चुनाव: डेमोक्रेटिक पार्टी का अमेरिकी सीनेट पर नियंत्रण, रिपब्लिकन की उम्मीदें धराशायी

वाशिंगटन: अमेरिका में हुए मध्यावधि चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी ने 2 वर्षों के लिए सीनेट पर एक बार फिर अपना नियंत्रण हासिल कर लिया है. वहीं, रिपब्लिकन पार्टी की बहुमत में आने की उम्मीदें धराशायी हो गई हैं. न्यूज एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस ने यह जानकारी दी. सीनेट पर नियंत्रण हासिल करने के लिए नेवादा में रिपब्लिकन और डेमो​क्रेटिक पार्टी दोनों के लिए जीत काफी अहम थी. नेवादा में सीनेटर कैथरीन कोर्टेज मैस्टो की जीत के साथ ही 100 सदस्यीय सीनेट में डेमोक्रेटिक पार्टी के पास 50 सीटें हो गईं और उसका बहुमत बरकरार रहा. सीनेट के नेता सदन चक शूमर ने शनिवार रात जीत हासिल करने का दावा किया. उन्होंने ट्वीट किया, सीनेट में डेमोक्रेटिक पार्टी को बहुमत.

कैथरीन कोर्टेज मैस्टो ने रिपब्लिकन उम्मीदवार एडम लैक्साल्ट को बेहद करीबी मुकाबले में मात दी. मैस्टो की जीत रिपब्लिकन पार्टी के लिए झटका है, जो उनकी हार को लेकर आश्वस्त थी. लैक्साल्ट को पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का समर्थन प्राप्त था. अमेरिकी सीनेट वर्तमान में डेमोक्रेट और रिपब्लिकन के बीच 50-50 में विभाजित है. नेवादा का परिणाम आने के बाद अब जॉर्जिया एकमात्र राज्य बचा है, जहां दोनों पार्टियों के बीच अब भी मुकाबला चल रहा है. अगर डेमोक्रेटिक सीनेटर राफेल वर्नाक 6 दिसंबर को रिपब्लिकन प्रत्याशी हर्शल वॉकर के खिलाफ जॉर्जिया में जीत हासिल करते हैं, तो डेमोक्रेट्स का बहुमत 51-49 तक बढ़ जाएगा.

रिपब्लिकन उम्मीदवार ब्लेक मास्टर्स को एरिजोना में पूर्व अंतरिक्ष यात्री डेमोक्रेट सीनेटर मार्क केली ने हरा दिया. प्रतिनिधि सभा के भविष्य को लेकर अनिश्चितता हालांकि अब भी बरकरार है क्योंकि रिपब्लिकन पार्टी वहां अपने मामूली बहुमत को बरकरार करने की कोशिश में लगी है. अमेरिकी कांग्रेस संसद के दो सदनों सीनेट और प्रतिनिधि सभा के लिए आठ नवंबर को मतदान हुआ था. नवनिर्वाचित सीनेट को 3 जनवरी को शपथ दिलाई जाएगी. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने गत बुधवार को मध्यावधि चुनावों को लोकतंत्र के लिए अच्छा दिन कहा. साथ ही उन्होंने कहा था कि हाल के वर्षों में हमारे लोकतंत्र का परीक्षण किया गया है, लेकिन अमेरिकी लोगों के वोटों से हमने एक बार फिर साबित कर दिया है कि यह लोकतंत्र है कि हम कौन हैं. राष्ट्रपति बाइडन ने कहा था कि रिपब्लिकन मध्यावधि चुनावों में काफी आशान्वित थे.

Leave a Reply

Required fields are marked *