MP:देवर के प्यार में पागल पत्नी की हैवानियत, पति को प्यार से चाट खिलाकर मार डाला, डेढ़ साल बाद हुआ खुलासा

MP:देवर के प्यार में पागल पत्नी की हैवानियत, पति को प्यार से चाट खिलाकर मार डाला, डेढ़ साल बाद हुआ खुलासा

रीवा: मध्य प्रदेश के रीवा जिले की मऊगंज थाना पुलिस ने करीब डेढ़ वर्ष पूर्व हुए ब्लांइड मर्डर केस Blind Murder का खुलासा किया है. मृतक की दूसरी पत्नी Wife का उसके छोटे देवर से अवैध संबंध Illicit relationship था. उसने जमीनी विवाद के चलते डेढ़ साल पहले पति को चाट में चूहा मारने की दवाई खिलाकर मौत के घाट उतार दिया. फिर धारदार हथियार से मृतक का गला काटा और बोरे में भरकर एक कमरे में भूसे के नीचे दफन कर दिया. पुलिस ने वारदात में शामिल चार आरोपियों को गिरफ्तार Four arrested किया है. वहीं दो आरोपी अब भी फरार है. दो दिन पहले पुलिस को जंगल में एक नरकंकाल पड़े होने की सूचना मिली. पुलिस और एफएसएल की टीम ने मौके पर पहुंचकर साक्ष्य एकत्रित किए, जिसके बाद खुलासा हुआ कि यह कंकाल रामसुशील पाल है, जो डेढ़ साल से गायब था.


रोंगटे खड़े कर देने वाली घटना मऊगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम उमरी गांव की है. दो दिन पूर्व जंगल में एक नरकंकाल पड़े होने की सूचना पुलिस को हुई थी. पुलिस की टीम ने जांच-पड़ताल की तो शक की सूई मृतक की दूसरी पत्नी पर घूम गई. कड़ाई से पूछताछ करने पर हत्या के राज का पर्दाफाश हो गया. मृतक रामसुशील पाल की दूसरी पत्नी रंजना पाल का उसके छोटे देवर के साथ प्रेम प्रसंग था. मृतक और उसके परिवार के बीच पूर्व से जमीनी विवाद भी था.


समोसे की चाट में चूहे मारने की दवा मिलाकर खिलाई

एसपी नवनीत भसीन ने बताया कि लगभग डेढ़ वर्ष पूर्व मृतक की दूसरी पत्नी और उसके देवर गुलाब पाल ने रामसुशील की हत्या की खौफनाक साजिश रची. पत्नी ने बाजार से समोसे वाली चाट मंगाई और उसमे चूहे मारने वाली दवा मिलाकर उसे पति को खिला दिया. मौत हो जाने के बाद उसने अपने प्रेमी देवर गुलाब पाल को पति के मौत की खबर दी. जिसके बाद दूसरे दिन गुलाब पाल ने अपने भाई अंजनी पाल के साथ मिलकर धारदार हथियार से उसका गला काटा. शव बोरे में भरकर वारदात वाली जगह से दूर ले जाकर एक कमरे में रखे भूसे के ढेर के नीचे दफन कर दिया.


बाहर काम करके पैसे कमाने गया है

दरअसल, मृतक पिछले डेढ़ वर्ष से घर पर नहीं दिखाई दे रहा था. इस दौरान पड़ोस के लोग जब मृतक के बारे में उसकी दूसरी पत्नी और परिजनों ने पूछताछ करते तो वह बाहर काम कर पैसे कमाने के लिए जाने की बात कह देते. पड़ोस के लोगों को राम सुशील के हत्या की भनक इसलिए नहीं लगी, क्योंकि मृतक अक्सर कभी डेढ़ माह तो कभी 15 से 20 दिनों के लिए घर से चला जाता था. वारदात में शामिल आरोपियों ने हत्या के डेढ़ वर्ष बाद यानि बीते दिनों शव को ठिकाने लगाने के लिए भूसे से बाहर निकाला और जंगल में फेंककर भाग गए. पुलिस ने आरोपी पत्नी और देवर समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है. मृतक की दूसरी पत्नी पिछले कई दिनों से उत्तर प्रदेश में थी, जिसे वहां से उसे दस्तयाब किया गया है.

Leave a Reply

Required fields are marked *