सूर्यकुमार: नेट प्रैक्टिस में आउट हुआ तो दोबारा बल्लेबाजी नहीं करता

सूर्यकुमार: नेट प्रैक्टिस में आउट हुआ तो दोबारा बल्लेबाजी नहीं करता

सूर्यकुमार यादव ने कहा कि अभ्यास के दौरान मैच की परिस्थितियां पैदा करके बल्लेबाजी करने से वह दबाव झेलने में महारत हासिल कर चुके हैं और पिछले एक साल से उन्हें इससे शानदार नतीजे भी मिल रहे हैं। पिछले कुछ समय से वह बेहतरीन फॉर्म में हैं जब उनसे इस निरंतरता के संबंध में की गयी तैयारी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, मैं जब अभ्यास सत्र में जाता हूं तो कुछेक में कोशिश करता हूं कि मैच की परिस्थितियों के हिसाब से खुद पर काफी दबाव बनाऊं जैसे कि मैच में ही खेल रहा हूं। 


सूर्यकुमार का पिछले 36 मैचों में स्ट्राइक रेट करीब 178 के करीब है और इसमें 11 स्कोर 50 रन एक शतक और 10 अर्धशतक से ज्यादा हैं। उन्होंने कहा, इसलिये उदाहरण के तौर अगर मैं कुछ गेंदों को निशाना बनाता हूं और जैसे कि मुझे कुछ संख्या में रन बनाने हैं और अगर मैं आउट हो जाता हूं तो मैं बाहर आ जाता हूं। उस दिन मैं फिर से बल्लेबाजी नहीं करता।  इस तरह से अभ्यास के दौरान मैच के हालात पैदा करने से उन्हें मैच की तैयारी करने में मदद मिलती है। सूर्यकुमार ने कहा, जब मैं मैच खेलने उतरता हूं तो यही चीज करता हूं और मेरी योजना बहुत स्पष्ट होती है। मुझे कौन से शॉट खेलने हैं, मैं क्रीज पर जाता हूं और खेलता हूं। मैं कुछ भी अलग नहीं करता। इससे मुझे काफी मदद मिल रही है और उम्मीद है कि आगामी मैचों में भी यही चीज करने की कोशिश करूंगा।

Leave a Reply

Required fields are marked *