नीतीश जी अब नाराजगी के नहीं बल्कि दया के पात्र हो चुके हैं: बिहार भाजपा प्रमुख

नीतीश जी अब नाराजगी के नहीं बल्कि दया के पात्र हो चुके हैं: बिहार भाजपा प्रमुख

बिहार में भाजपा और जदयू के बीच में जबरदस्त तरीके से वार-पलटवार का दौर चल रहा है। हाल में ही भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जयप्रकाश नारायण की 120 वीं जयंती के अवसर पर सारण पहुंचे थे। इस दौरान अमित शाह ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जबरदस्त तरीके से निशाना साधा था। अमित शाह के ही बयान पर पलटवार करते हुए नीतीश कुमार ने कहा था कि जिनकी राजनीति ही पिछले 20 सालों में शुरू हुई है उनके बारे में हम क्या बोल सकते हैं। अब इसी को लेकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने नीतीश कुमार पर प्रहार किया है। संजय जायसवाल की ओर से एक के बाद एक कई ट्वीट किए गए। अपने ट्वीट में नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए संजय जायसवाल ने साफ तौर पर कहा कि अब वह नाराजगी कि नहीं बल्कि दया के पात्र हो चुके हैं। इसके साथ ही उन्होंने नीतीश कुमार के लिए लिखा के गेट वेल सून भाई। 


संजय जायसवाल ने अपने ट्वीट में लिखा कि अच्छा है कि नीतीश कुमार जी ने तेजस्वी जी को मुख्यमंत्री बना कर आश्रम खोलने का निर्णय कर लिया है। वरना जिस तरह की बातें वह कह रहे हैं उससे बिहार का भगवान भी मालिक नहीं रह पाएगा। वह माननीय गृह मंत्री के इमरजेंसी के समय के योगदान पर चर्चा कर रहे थे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अर्थात 9 वर्ष की उम्र में गृह मंत्री जी क्यों नहीं इमरजेंसी आंदोलन में शामिल थे जल्दी ही वह यह भी कहेंगे कि बिहार में स्वतंत्रता सेनानियों की चर्चा केवल वही करेंगे जो 100 वर्ष के ऊपर हैं और 1857 की लड़ाई के बारे में चर्चा करना बिहार में अपराध माना जाएगा क्योंकि अभी 170 वर्ष का कोई व्यक्ति बिहार में मौजूद नहीं है।


बिहार भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नीतीश जी अब नाराजगी के नहीं बल्कि दया के पात्र हो चुके हैं। मुझे उनपर मुन्ना भाई सिनेमा का डायलॉग ही याद आता है। गेट वेल सून भाई! दरअसल, बिहार दौरे पर गए अमित शाह ने नीतीश पर हमला बोला था और कहा कि पांच बार पाला बदलने वाले मुख्यमंत्री बने हुए हैं। महागठबंधन में शामिल कांग्रेस की ओर इशारा करते हुए शाह ने नीतीश कुमार और लालू प्रसाद पर निशाना साधा तथा आरोप लगाया कि जिन्होंने देश में आपातकाल थोपा ये लोग उन्हीं की गोद में जा बैठे हैं। इसी के पलटवार में नीतीश ने कहा था कि आपलोग जिनका नाम ले रहे हैं,उनका लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी से कोई मतलब था क्या। उन्होंने कहा कि ये कब से राजनीति में आये हैं। जिनकी राजनीति ही पिछले 20 सालों से शुरू हुयी है उनके बारे में क्या कहें। लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी से उनका का क्या संबंध था।


Leave a Reply

Required fields are marked *