आदिवासी बच्चों के धर्मांतरण की कोशिश का आरोप लगाया विहिप कार्यकर्ताओं ने

आदिवासी बच्चों के धर्मांतरण की कोशिश का आरोप लगाया विहिप कार्यकर्ताओं ने

मध्य प्रदेश के खंडवा में सोमवार को स्कूल के एक कार्यक्रम में बच्चों को ले जा रहे एक वाहन को दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने रोक कर हंगामा किया और आयोजकों पर धर्म परिवर्तन कर आरोप लगाया। एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि यह घटना उस समय हुई जब एक वाहन आदिवासी बच्चों के एक समूह को खंडवा के सेंट पायस स्कूल में आयोजित एक कार्यक्रम में ले जाया जा रहा था। उनके अनुसार विश्व हिंदू परिषद विहिप और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने बच्चों को धर्म परिवर्तन के लिए ले जाने का आरोप लगाते हुए स्कूल के पास वाहन रोक लिया।प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार पुलिस और जिले के अधिकारियों के मौके पर पहुंचने तक दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने काफी देर तक वाहन को रोके रखा। विहिप के जिला सचिव अनिमेष जोशी ने दावा किया कि आदिवासी लड़कों और लड़कियों के एक समूह को धर्म परिवर्तन के लिए लाए जाने की सूचना मिलने के बाद उन्होंने वाहन को रोक दिया। उन्होंने कहा कि आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए क्योंकि वे बिना अनुमति के कार्यक्रम का संचालन कर रहे थे।

घटना के बाद मौके पर पहुंचे सब डिविजनल मजिस्ट्रेट एसडीएम अरविंद चौहान ने कहा कि पुलिस मामले की जांच कर रही है क्योंकि कार्यक्रम बिना किसी पूर्व अनुमति के आयोजित किया गया था। उन्होंने कहा कि पुलिस ने बच्चों आयोजकों और स्कूल शिक्षकों के बयान दर्ज कर लिए हैं और जांच के बाद आगे कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस बीच, कार्यक्रम के आयोजक फादर जोस ने दावा किया कि कार्यक्रम के लिए केवल कैथोलिक लड़के और लड़कियों को आमंत्रित किया गया था और जिला प्रशासन से इस आयोजन की अनुमति लेने के प्रयास सफल नहीं हुए थे।

Leave a Reply

Required fields are marked *