बरेली में आज से उर्स-ए-रिजवी:​​​​​​​साउथ अफ्रीका ऑस्ट्रेलिया समेत खाड़ी देशों से पहुंचे जायरीन

बरेली में आज से उर्स-ए-रिजवी:​​​​​​​साउथ अफ्रीका ऑस्ट्रेलिया समेत खाड़ी देशों से पहुंचे जायरीन

बरेली में आला हजरत के 104वें उर्स-ए-रजवी का आगाज हो गया। इसमें शामिल होने के लिए साउथ अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और खाड़ी देशों से विदेशी जायरीन बरेली पहुंच चुके हैं। उम्मीद है कि पहले दिन 10 लाख से ज्यादा लोग उर्स में शामिल होंगे। शाम 4 बजे चादर चढ़ाने के साथ उर्स शुरू होगा। रात में मुशायरा और इस्लाम के कुल शरीफ की रस्म अदा की जानी है।


उर्स की सभी रस्में दरगाह परिसर के साथ ही इस्लामिया मैदान में अदा की जाएंगी। इसकी निगरानी दरगाह प्रमुख हजरत मौलाना सुब्हान रजा खान (सुब्हानी मियां) और सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन रजा कादरी ( अहसन मियां) करेंगे।


निकलेगा परचमी जुलूस

इस बारे में मीडिया प्रभारी नासिर कुरैशी ने बताया,"सबसे पहले पहले आजमनगर में हाजी अल्लाह बख्श के घर से जुलूस शाम 4 बजे निकलेगा। दरगाह के सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन मियां इसकी अगुवाई करेंगे। कुमार टाकीज, इंदिरा मार्केट होते हुए बिहारीपुर के ढाल के रास्ते दरगाह पहुंचेगा।


वहां सलामी देने के बाद जुलूस वापस इस्लामिया मैदान पर पहुंचेगा। यहां दुनिया भर के उलेमा मौजूद रहेंगे। हजरत सुब्हानी मियां यहां परचम कुशाई यानी चादर चढ़ाने की रस्म को अदा करेंगे। इसी के साथ उर्स का विधिवत ऐलान हो जाएगा। मगरिब की नमाज पढ़ी जाएगी। रात में 10 बजकर 35 मिनट पर आला हजरत के बड़े साहिबजादे हुज्जातुल इस्लाम के कुल शरीफ की रस्म भी अदा होगी।

मुशायरा होगा, शेर पढ़े जाएंगे

इसके बाद मुशायरा होगा। हजरत अहसन मियां की अध्यक्षता में मुफ्ती आकिल रजवी, मुफ्ती सलीम नूरी, मुफ्ती सय्यद कफील हाशमी, मुफ्ती मोइनुद्दीन, मुफ्ती अफरोज आलम, कारी अब्दुर्रहमान कादरी, मुफ्ती अनवर अली और मौलाना डॉ. एजाज अंजुम की निगरानी में शुरू होगा।


मुफ्ती सलीम नूरी बरेलवी ने बताया, "मुशायरा का मिसरा ‘इधर उम्मत की हसरत पर उधर खालिक की रहमत‘ पर होगा। देश-विदेश के शायर इसी मिसरे पर अपने-अपने कलाम पेश करेंगे। मुशायरा देर रात तक चलता रहेगा। मुशायरे की निजामत (संचालन) मौलाना फूल मोहम्मद नेमत रजवी और कारी नाजिर रजा बरेलवी एक साथ करेंगे।"

कुल शरीफ के साथ तीन रोजा उर्स का होगा समापन

22 सितंबर (गुरुवार) के बाद नमाज-ए-फज्र कुरानख्वानी होगी। इसके बाद कॉन्फ्रेंस सुबह 9 बजक 58 मिनट पर रेहाने मिल्लत और साढ़े 10 बजे मुफस्सिर-ए-आजम के कुल शरीफ की रस्म अदा की जाएगी। इसके बाद आपसी सौहार्द कॉन्फ्रेंस की जाएगी। दिन में कार्यक्रम और चादरपोशी का सिलसिला चलता रहेगा।


रात में दुनिया भर के मशहूर उलेमा की तकरीर पेश होगी। देर रात 1 बजकर 40 मिनट पर मुफ्ती आजम-ए-हिन्द के कुल शरीफ की रस्म अदा की जाएगी। 23 सितंबर (जुमा) बाद नमाज-ए-फज्र कुरानख्वानी और सुबह 8 बजे से नात ओ मनकबत और तकरीर का सिलसिला शुरू होगा। जो 2 बजकर 38 मिनट तक जारी रहेगा। आला हजरत के कुल शरीफ के साथ तीन रोजा उर्स का समापन होगा।


देश-विदेश के 10 लाख जायरीन होंगे शामिल

उर्स-ए-रिजवी में देश भर से जायरीन आएंगे ही, उसके साथ बड़ी संख्या में विदेशों से भी जायरीन शामिल होंगे। जिसके तहत बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, सऊदी अरब, मॉरिशस, तुर्की, साउथ अफ्रीका, अमेरिका, इंग्लैंड, यूके, जर्मनी, मिश्र, दुबई और हॉलैंड आदि देशों के अकीदत मंद शिरकत करने बरेली पहुंचेंगे। कोविड के बाद से पूर्व की तरह होने वाले उर्स-ए-रिजवी में इस बार करीब 10 लाख जायरीन की भीड़ आने की संभावना है।


व्यवस्था का जायजा लेने पहुंचे अफसर और उर्स कोर कमेटी के सदस्य

मंडलायुक्त सेल्वा कुमारी जे ने एडीजी बरेली राजकुमार, आईजी रमित शर्मा, डीएम शिवाकन्त द्विवेदी के साथ आज आला हजरत उर्स (उर्स-ए-रिजवी) को लेकर इस्लामिया इंटर कॉलेज के ग्राउंड तथा मथुरापुर स्थल का निरीक्षण किया। वहां पर साफ सफाई की व्यवस्था देखी तथा संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। इस अवसर एसएसपी अखिलेश कुमार चौरसिया अपर जिलाधिकारी नगर आरडी पांडे सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे

जायरीन की आमद शुरू

जमात रजा के प्रवक्ता समरान खान ने बताया, "जायरीन आने लगे हैं। मदरसा जामियातुर रजा जायरीनों के लिए तैयार किया गया है। उर्स की व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए दरगाह आला हजरत के संगठन जमात रजा-ए-मुस्तफा की उर्स कोर कमेटी की टीम जमात रजा के राष्ट्रीय महासचिव फरमान मियां के साथ मदरसा जामियातुर रजा पहुंची।"


टीम ने साफ सफाई, स्टील लाइट, लंगर, स्टेज, पंडाल, शौचालय, वुजू, पानी, साउंड आदि चीजों की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जमात रजा के राष्ट्रीय महासचिव फरमान मियां ने जिला प्रशासन की व्यवस्थाओं की तारीफ की। इस मौके पर डॉक्टर मेहंदी हसन, शमीम अहमद, हाफिज इकराम रजा खां, मोईन खान, समरान खान, कौसर अली और फैजान रजा आदि लोग मौजूद रहे।जंक्शन में अतिरिक्त टिकट काउंटररोडवेज ने जायरीन के लिए अतिरिक्त बसों का इंतजाम किया है। रेलवे अफसरों ने जंक्शन पर अतिरिक्त टिकट काउंटर खाेले हैं। उर्स के दौरान जायरीन की भीड़ को टिकट के लिए परेशानी न हो, इसके चलते रेलवे ने जंक्शन पर दोनों साइड में 12 अतिरक्त काउंटर खोला है।उर्स-ए-रजवी के लिए लाइव प्रसारण के लिए लिंक जारीजामियातुर रजा के आईटी सेल प्रभारी अतीक अहमद ने बताया, "लोग ऑनलाइन के माध्यम उर्स में शिरकत कर सकते हैं। कार्यक्रम को वेबसाइट लिंक पर घर बैठे ऑडियो लाइव प्रसारण सुन सकते हैं। सोशल मीडिया के तमाम ग्रुपों पर लिंक को वायरल किया जा रहा है। हाई स्पीड इंटरनेट की व्यवस्था की गई है।" शहर में तीन दिन भारी वाहनों का प्रवेश नहीं होगा3 दिन शहर में भारी वाहनों की पूरी तरह से नो-एंट्री रहेगी। रुट डायवर्जन मंगलवार रात 8 बजे से लागू कर दिया गया है। 21, 22 एवं 23 सितंबर तक रुट डायवर्जन लागू होगा। उर्स स्‍थल की सुरक्षा ड्रोन कैमरों की निगरानी में की जाएगी। हर प्वाइंटों पर बैरियर लगाए जाएंगे। संबंधित थाना क्षेत्रों के प्रभारियों के नंबर भी चिपकाए जाएंगे।यह रहेगी डायवर्जन व्यवस्थाडायवर्जन जायरीनों के लिए लागू नहीं होगा। उनको निर्धारित मार्ग से उर्स-ए-रजवी की ओर आने दिया जाएगा। चौपुला चौराहा, सैटेलाइट, चौकी चौराहे के पास से पार्किंग स्थलों पर भेजा जायेगा।मुरादाबाद, रामपुर की ओर से आने वाले भारी वाहन परसाखेड़ा से बड़ा बाइपास होकर नैनीताल, पीलीभीत, लखनऊ जा सकेंगे।लखनऊ की ओर से आने वाले भारी वाहन इन्वर्टिज चौराहे से बड़ा बाइपास होकर पीलीभीत, नैनीताल एवं रामपुर जा सकेंगे।रामपुर, नैनीताल, पीलीभीत एवं बरेली की ओर से बदायूं की तरफ जाने वाले भारी वाहन इन्वर्टिज चौराहे से फरीदपुर, बुखारा मोड, रामगंगा होकर जाएंगे। इसी रास्ते से वापसी होगी।लखनऊ से बदायूं की ओर जाने वाले भारी वाहन फरीदपुर से बुखारा मोड रामगंगा होकर जाएंगे। बदायूं से लखनऊ की ओर जाने के लिये भारी वाहन रामगंगा तिराहे से बुखारा मोड़ फरीदपुर होकर गुजरेंगे।यह भी होगी व्यवस्थापरसाखेड़ा बाइपास झुमका तिराहायहां से कोई भी भारी वाहन अंदर शहर की तरफ नहीं आएगा। बड़ा बाइपास से निकलेगा।मिनी बाइपास तिराहाभारी वाहन जाता है तो इज्जतनगर की ओर मोड़ दिया जायेगा जो नैनीताल रोड से बड़े बाइपास से निकलेगा।नैनीताल रोड बड़ा बाईपासबिल्वा पुल के नीचे से अंदर शहर की तरफ कोई भी भारी वाहन नहीं आएगा।पीलीभीत रोड विलयधाम बड़ा बाइपासविलय धाम पुल के नीचे से अंदर शहर की तरफ कोई भी भारी वाहन नहीं आएंगे।बीसलपुर चौराहा बड़ा बाइपास से अंदर शहर की तरफ कोई भी भारी वाहन नहीं आएंगे।बड़ा बाइपास जीरो प्वाइंट से भारी वाहन ट्रांसपोर्ट नगर तक आ जा सकेंगे।

चौकी चौराहा अगर सेटेलाइट की तरफ से कोई भी भारी वाहन शहर में अंदर की तरफ आता है तो उसे बियावान तिराहा से लाल फाटक रोड पर मोड़ दिया जाएगा।

रामगंगा तिराहा बदायूं की तरफ से आने वाला भारी वाहन लाल फाटक बियावान कोठी तिराहा की ओर होकर जायेगा। करगैना की तरफ भारी वाहनों का आवागमन पूरी तरह बंद रहेगा।


उर्स-ए-रिजवी में दो शिफ्टों में लगेगी पुलिस की ड्यूटीउर्स-ए-रिजवी को लेकर सोमवार को बरेली एडीजी राजकुमार और आईजी रमित शर्मा ने पुलिसकर्मियों की बैठक ली। उर्स के लिए 4 अपर पुलिस अधीक्षक, 10 सीओ, 6 इंस्पेक्टर, 170 दारोगा, 1400 आरक्षी, 200 यातायात पुलिसकर्मी, 4 कंपनी पीएसी, और एक कंपनी सीएपीएफ पुलिस बल लगाया गया है। उन्होंने बताया कि उर्स के दौरान पुलिस कर्मियों की 2 शिफ्ट में ड्यूटी लगाई जाएगी।


200 से अधिक सीसीटीवी से निगरानी उर्स के दौरान शहर में लगे 200 से अधिक सीसीटीवी से मॉनिटरिंग की जाएगी। अफसरों ने कहा कि संवेदनशील इलाकों में ज्यादा पुलिस बल तैनात की जाएगी। धार्मिक स्थानों पर लाउड स्पीकर को लेकर भी सतर्क रहने के निर्देश भी दिए जाएं।


ड्रोन से होगी उर्स स्‍थल व दरगाह के आसपास की निगरानीडीएम शिवाकांत द्विवेदी और एसएसपी अखिलेश कुमार चौरसिया ने उर्स-ए-रजवी पर्व के दृष्टिगत इस्लामिया मैदान, आला हजरत की दरगाह और मथुरापुर सीबीगंज में सुरक्षा को लेकर विशेष बल दिया। डीएम ने कहा उर्स-ए-आला हजरत का बड़ा आयोजन होता है। सभी एसपी, सीओ, एलआईयू और इंटेलिजेंस को निगरानी करने के लिए कहा गया है।

Leave a Reply

Required fields are marked *