तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने UNGA में फिर उठाया कश्मीर मुद्दा

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने UNGA में फिर उठाया कश्मीर मुद्दा

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र में अपने संबोधन के दौरान कश्मीर मुद्दा उठाया। एर्दोगन ने कहा कि भारत और पाकिस्तान अपनी आजादी के 75 साल बाद भी कश्मीर में शांति स्थापित नहीं कर पाए हैं। उच्च स्तरीय बैठक को संबोधित करते हुए तुर्की के राष्ट्रपति ने क्षेत्र में स्थायी शांति की आशा व्यक्त की। एर्दोगन ने यूएनजीए में कहा कि भारत और पाकिस्तान 75 साल पहले अपनी संप्रभुता और स्वतंत्रता स्थापित करने के बाद भी अभी भी एक दूसरे के बीच शांति और एकजुटता स्थापित नहीं की है। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। हम आशा और प्रार्थना करते हैं कि एक निष्पक्ष और स्थायी शांति और समृद्धि स्थापित हो। 

तुर्की के राष्ट्रपति ने शुक्रवार को उज्बेकिस्तान के समरकंद में शंघाई सहयोग संगठन एससीओ शिखर सम्मेलन के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद एक हफ्ते से भी कम समय में कश्मीर मुद्दा उठाया। इस मुलाकात के दौरान पीएम मोदी और एर्दोगन ने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की। गौरतलब है कि तुर्की पाकिस्तान का करीबी सहयोगी है। एर्दोगन ने अपने पहले के यूएनजीए संबोधनों में कश्मीर मुद्दे का भी उल्लेख किया था। इसने नई दिल्ली और अंकारा के बीच संबंधों में तनाव पैदा किया। पिछले साल एर्दोगन ने यूएनजीए की बैठक के दौरान कश्मीर पर अमेरिकी प्रस्तावों का उल्लेख किया था। विशेष रूप से पाकिस्तान के बाद तुर्की एकमात्र देश था जिसने 193 सदस्यीय यूएनजीए में कश्मीर को लाया था। 

Leave a Reply

Required fields are marked *