कस्टडी में बिजली कर्मचारी की मौत के बाद बवाल पुलिस की गाड़ियां तोड़ीं, सड़क पर शव रखा

कस्टडी में बिजली कर्मचारी की मौत के बाद बवाल पुलिस की गाड़ियां तोड़ीं, सड़क पर शव रखा

गोंडा में बुधवार को पुलिस कस्टडी में बिजली कर्मचारी की मौत के बाद वबाल हो गया। ग्रामीणों ने नवाबगंज मार्ग पर शव रखकर जाम लगा दिया। पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। पत्थरबाजी कर पुलिस की गाड़ियों में जमकर तोड़फोड़ की। साथ ही एंबुलेंस को भी पलट दिया।


सूचना मिलते ही डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे। वे युवक के परिजनों और ग्रामीणों को समझाने में जुटे हुए हैं। हंगामे को देखते हुए प्रशासन ने नवाबगंज मार्ग को हंगामा स्थल से 25 किमी दूर से डायवर्ट कर दिया।


मामले में लापरवाही बरतने पर नवाबगंज थानाध्यक्ष तेज प्रताप सिंह, SOG प्रभारी अमित यादव को सस्पेंड कर दिया है। साथ ही थानाध्यक्ष के खिलाफ FIR दर्ज की गई है।


देर रात जिला अस्पताल पर किया था हंगामा

दरअसल पुलिस हत्या के मामले में युवक को कस्टडी में लेकर पूछताछ कर रही थी। इसी दौरान युवक की तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद पुलिसवाले उसे जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। युवक की मौत की सूचना पर उसके घर वाले पहुंच गए। उन्होंने बुधवार देर रात में अस्पताल के बाहर हंगामा कर दिया था। सूचना मिलते ही एसएसपी आकाश तोमर मौके पर पहुंचे।


उन्होंने परिजनों को समझाया बुझाकर मामला शांत कराया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजवाया। गुरुवार सुबह पुलिस ने परिजनों को शव सौंपा। इसके बाद परिजनों ने दोबारा हंगामा शुरू कर दिया।


SP बोले- नहीं है कोई विजिबल इंजरी


SP आकाश तोमर ने बताया बीते दिनों हुई एक हत्या के मामले में पूछताछ के लिए एक युवक को थाने में लाया गया था। परिवार वाले भी वहीं मौजूद थे। युवक से अलग पूछताछ की जा रही थी। जैसा कि वहां पर उपस्थित थाने वालों ने बताया कि पूछताछ के दौरान इसकी तबीयत खराब हुई।


SP ने कहा उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया है। यहां पर मैंने मृतक युवक की बॉडी देखी है। कोई विजिबल इंजरी नहीं है। पैनल से पोस्टमार्टम कराया गया है। इसके अलावा परिवार वाले जो भी तहरीर देंगे। फिलहाल नवाबगंज थानाध्यक्ष और एसओजी प्रभारी को सस्पेंड कर दिया है।


लाइनमैन था मृतक

मृतक का नाम देवनारायण है। वह माझा राठ गांव का रहने वाला था। वह बिजली विभाग में संविदा के पद पर लाइनमैन का नौकरी करता है। ग्रामीणों ने बताया बीते दिनों जैतपुर चौहान पुरवा में हुई झोलाछाप डॉक्टर की हत्या हुई थी। इसी मामले में नवाबगंज और एसओजी पुलिस ने पूछताछ के लिए उसे पुलिस कस्टडी में लिया था। बुधवार दोपहर 3 बजे देवनारायण के पिता ने प्रधान के साथ बेटे को नवाबगंज पुलिस और SOG को पूछताछ के लिए सौंपा था।


झोलाछाप के मोबाइल में देवा का नंबर मिला था

पिता राम बहादुर यादव ने बताया झोलाछाप डॉक्टर की हत्या हुई थी। उसके मोबाइल में मेरे बेटे का नंबर था। पुलिस ने कहा कि कुछ सवाल पूछने के बाद लड़के को छोड़ देंगे। मैं थाने में जाकर बैठ गया था। नवाबगंज पुलिस ने एसओजी को सौंप दिया था। पुलिस वालों ने मेरे बेटे को बहुत पीटा।


समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर लिखा शर्मनाक

समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर लिखा कि गोंडा में पुलिस द्वारा एक पिछड़े जाति के युवक देवनारायण यादव को योगी जी की बेलगाम पुलिस ने कस्टडी में मार डाला। लखीमपुर में दलित बालिकाओं की गैंगरेप और हत्या के बाद गोंडा में पिछड़े की पुलिसिया हत्या योगी सरकार में दलितों पिछड़ों पर अत्याचार की कहानी कह रही

Leave a Reply

Required fields are marked *